भटकन का आदर्श

वेदना मे एक शक्ति है जो द्रष्टि देती है।जो यातना मे है,वह द्रष्टा हो सकता है

26 Posts

15 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 23693 postid : 1185900

सुनो मां !!… मैं जीवन से भरे तमाम लोगों के बीच रहते –रहते खाली हो गया हूँ |

Posted On 3 Jun, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सुनो मां !!…
जीवन की खूबसूरती से कोसों दूर मैं वेदना की रोशनी में यह खत लिख रहा हूँ |यह खत उस सच्चाई का समझाव ही है कि मुझे मेरे ही जीवन ने हाशिये पर ला पटका है ‘| मैं जीवन से भरे तमाम लोगों के बीच रहते –रहते खाली हो गया हूँ |शराब की पहली बोतल से लेकर चर्च की सात्विक शामों तक मैंने शांति को खोजा है |लेकिन शांति को सोता शायद सूख गया है |
किताबों से निकलकर हर रोज एक पागल पथिक मेरे सामने आ जाता है |सालों पहले उसने खुद में खोजने की बजाय सब में ख़ुशी को खोजकर पागल कर लिया था |मंटो की कहानियों के किरदार मुझे मेरे दोस्त लगते हैं |मेरे जहन में किताबों से भरा एक कमरा है | इस कमरे के भीतर कोई बाप अपनी उस बेटी को ज़िंदा देखकर खुश हो रहा है जिसका भरोसेमन्दों ने सामूहिक बलात्कार किया है | ‘कितने पाकिस्तान’ के शुरूआती पन्नो से बाबर अपना सर निकालकर इन्साफ के लिए चिल्ला रहा है |शरत चन्द्र के उपन्यासों की दुसरी औरत अपने प्रिय के लिए खुद का प्यार भी सदियों से कुर्बान कर रही है |महानता की चादर उसके आंसुओ से गीली हो रही है | निर्मल वर्मा का डैनी दो तिनका सुख की तलाश में सालों से भटक रहा है | इन किरदारों का हिसाब कौन करेगा |??? जुल्म की अनगिनत दास्तानों की बावजूद किताबें यह यकीन करने को कहती हैं की अब इन्साफ होने वाला है |मुझे इन झूठे यकीनों पर तरस आता है |

मां !!मैं दिन पर दिन एक बेकार आदमी होता जा रहा हूँ |किसी ऐसी इमारत की रचना में लगा आदमी जो कमजोर कामगारियों के चलते नियति में गिरना लिखाकर लाई है | सड़क के तीन चक़्कर मुझे थका देते हैं |इक्कीस बसन्तों में ही मैं बूढ़ा हो गया हूँ |जबरदस्त थका होने के बावजूद मन की बेचैनियाँ शांत नहीं होती |स्लीपिंग पिल्स के तीन -तीन डोज भी रात को किसी बुरे ख़्वाब में बदलने से नहीं रोक पाते | मुझे ठीक से हंसे हुए हफ्तों हो जाते हैं |मेरा जीवन समुद्र में पड़े हुए उन खाली तीन के कनस्तरों सा हो गया है जो खन्न -खन्न की आवाज करते अपने चारो और बिखरे पत्थरों से टकराया करते हैं | भला वेदना की शक्ति के सहारे कोई कब तक जियेगा |एक समय बाद वेदना की वैलेडिटी भी खत्म हो जाती है | शायद मैंने जीवन को गलत तरह से समझा है या जीना मेरे ‘समझ’ से कुछ ऊंची किस्म की चीज है | मैंने अब बच्चों के साथ खेलना बंद कर दिया है |मुझे मालूम है मां!! उन पर मेरा बुरा प्रभाव पड़ता है |वह अपने करीबियों से अजीब से सवाल करने लगते हैं |ऐसे सवाल जिनको कोई सुनना नहीं चाहता |जिनका जवाब कोई जानना नहीं चाहता|
मां !!दिन का एक मात्र खूबसूरत काम नाद्रा से मिलना होता है |नाद्रा एक विचित्र लड़की है मां |उसे मेरी ही तरह हर शाम किसी से प्यार हो जाता है |उसकी ज़िंदगी में उससे भी ज्यादा विचित्र कहानिया हैं |उन कहानियों से गुजरना ही उसे मेरे पास ले आया है| नाद्रा मेरे दवरा देखी गई युद्ध के खिलाफ प्रकृति की जवाबी रचना है |वह इतनी मासूम है की उसे देख नफरत भी मोहब्ब्त के सलीके सीख जाएगी |जब समझदारियां मुझ पर हावी होने लगती हैं ,मैं उसकी मासूमियत याद कर लेता हूँ |मासूमियत लौट आती है और नाद्रा चली जाती है |मैं अच्छा बेटा तो कभी था ही नहीं अच्छा प्रेमी बनने में भी नाकाम रहा हूँ |मां !!अच्छा आशिक होना वाकई एक चुनौती भरा काम है |
मां !! घर से बहुत दूर यहां अब मैं एक औपचारिक जीवन जी रहा हूँ | बदलाव की हर बात बदलाव लाने में नाकाम रही है | मेरा जीवन निर्मल वर्मा के उन उपन्यासों जैसा होता जा रहा है ,जिनमे कहानी या क्लाइमेक्स की बजाय जीवन के ऊब भरी यात्रा होती है | दिन की खालीपन मुझे थका देता है और अंतर्मन रात को एक नाइटमेयर में बदल देता है |आधी रात को उठकर मैं अपना लैपटॉप ऑन कर देता हूँ | गूगल पर सुसाइड करने के आसान तरीके खोजने लगता हू |फिर डर कर डाटा ऑफ कर देता हूँ |खुद को मारने का ख्याल अजीब लगता है |शायद मरने से भी ज्यादा अजीब होता है ‘अकेले मर जाना’ | वेदना को भी साथी चाहिए होता है मां !!! |मौत को भी साक्षी चाहिए होता है |
आशुतोष तिवारी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran