भटकन का आदर्श

वेदना मे एक शक्ति है जो द्रष्टि देती है।जो यातना मे है,वह द्रष्टा हो सकता है

26 Posts

15 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 23693 postid : 1146633

इस बजट के लिए राहुल गांधी को शुक्रिया नही बोलियेगा ???

Posted On 17 Mar, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

वित्त मंत्रालय ने साल का सबसे भारी काम निपटा दिया है | आम बजट आ चुका है जिसे ‘संकटों से घिरी सरकार’ ने ‘सम्भावनाओ भरा’ बताया है |विमर्श की मंडी में बजट को लेकर तमाम तरह के विश्लेषण मौजूद है |जिन लोगों ने नरेंद्र मोदी में मार्गेट थैचर से लेकर रोनाल्ड रोगन तक की आत्मा ढूंढने की कोशिश की थी , ये बजट पड़कर उनका चेहरा ‘मुह छिपाने वाली इमोजी’ जैसा हो गया है |सोशल मीडिया पर भाजपाई प्रतीकों के जरिये अपनी पहचान बनाने वाला एक तबका असली भारत यानी ग्रामीण भारत का बजट बताकर दीन दयाल टाइप फील करने लगा है | आज के अखबार उन बिन्दुओं से भरे ही थे कि ‘बजट में क्या क्या है’ इसलिए मैं उन तकनीकी बातों से बच रहा हूँ |
समय अपनी चाल से विचित्र किस्से बुनता है |16 मई को भारी जनादेश पर चढ़ आई इस सरकार के बारे में अंग्रेजी अखबार ‘मिंट’ ने 17 मई को टिप्पड़ी की थी.. ” द विक्ट्री ऑफ़ द बीजेपी इज द फर्स्ट विक्ट्री ऑफ़ इंडियन कैपिटलिज्म” | आज के हिन्दुस्तान टाइम्स की हैडलाइन है ..”मिस्टर राइट टर्न टु लेफ्ट ” | इन दोनों टिप्पड़ियों की तुलना कीजिए | क्या आप भी वही सोच रहे हैं जो मैं सोच रहा हूँ | क्या ये बहुत ही सतहीकरण है या सचमुच भाजपा का वैचारिक पुनर्वास हो गया है | इसका जवाब आज के अमर उजाला में ‘नीलांजन मुखोपाध्याय’ के लेख में मिलता है |नीलांजन लिखते है कि ‘यह वित्त मंत्री का नही प्रधानमंत्री का बजट है |भाजपा पिछले दो विधानसभा चुनाव बुरी तरह हारी है |हार के इन कारणों में सरकार की कॉर्पोरेट परस्त मानी जा सकती है |इन दो सालों में 9 राज्यों में चुनाव है जहां जीतना दिन पर दिन (अगर सरकार मनचाहे बिल पास कराना चाहती है ) सरकार की राजन्ररतिक मजबूरी होती जा रही है |’मूलतः मेरी भाषा में कहूँ तो यह अर्थ मंत्रालय का राजनीतिक बजट है |
आज के ‘नेशनल ट्रिब्यून’ और ‘राजस्थान पत्रिका’ ने जो पहले पृष्ठ पर बजट रिपोर्टिंग की है उसका सार यही है की यह बजट सूट- बूट के जोखिम से मुक्ति का प्रयास है |अगर सूट बूट वाली बात बीजेपी को इतनी ज्यादा लगी है की वह अपनी धुर पूंजीवादी शैली को छोड़कर किसान परस्त हो गयी है तो इस जुमले के जन्मदाता राहुल गांधी को शुक्रिया तो कहा ही जा सकता है |वैसे भी पिछले एक साल से राहुल गांधी सैफ्रन किस्म की इस सरकार को सूट- बूट की सरकार साबित करने के लिए दिन रात एक किये हुए हैं |
हालांकि बजट की तमाम व्याख्याओं में सरलीकरण हुआ है | आम मत से मान लिया गया लगता है की यह बजट किसानों की ज़िंदगी बदल देगा | हिंदी के किसी अखबार ने इस बजट को ‘मोदी का कृषि -दर्शन’ नाम दिया है | क्या सचमुच ऐसा है या हम कोई जल्दबाजी कर रहे हैं |अगर सरकार सचमुच किसानों की हितैषी है तो लागत मूल्य से 50 फीसदी अधिक सरचार्ज देने के उस वादे का क्या जो किसानों से लोकसभा चुनावों से पहले किया गया था |
बेशक इस बजट में कृषि क्षेत्र पर ध्यान देने की फुटकर पेशकशें हैं पर कोई सुनुयोजित रोडमैप नही दीखता है |सरकार को किसानो का हितैषी बताकर हम कही कोई जल्दबाजी तो नही कर रहे | वैचारिक प्रतिबद्धताएं रातो रात परिवर्तित नही होया करती | दुनिया भर की दक्षिणपंथी सरकारें संकट व ख़ास किस्म के राजनीतिक हालातों में जनता के बड़े भाग पर अपनी लेजिटिमेसी जारी रखने के लिए ऐसे लोकलुभावन फैसले लेती रही है |

आशुतोष तिवारी
भारतीय जन संचार संस्थान



Tags:   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
March 17, 2016

आदरणीय आशुतोष तिवारी जी, बजट पर आपकी बेबाक टिप्पणी कबीले तारीफ है, इसका श्रेय राहुल गांधी ने अपनी बयानों में लिया है. अभी परिणाम बाकी है. उत्तर भारत में बेमौसम बारिश और ओलाबृष्टि से जो क्षति हुई है किासनों को उसकी पूर्ती कर दे और संभावित कृषि उत्पादों की कमी से निपटने के उपाय कर दे तो काफी है अन्यतः आनेवाले चुनाव के नतीजे तो बता ही देंगे इनकी हैसियत को… देर आयद दुरुस्त आयद की शुरुआत कह सकलते हैं. अमित शाह अभी भी पूरे जोशो खरोश में हैं.उनकी ऊर्जा अभी काम नहीं हुई है. ….

jlsingh के द्वारा
March 17, 2016

आदरणीय आशुतोष तिवारी जी, बजट पर आपकी बेबाक टिप्पणी कबीले तारीफ है, इसका श्रेय राहुल गांधी ने अपनी बयानों में लिया है. अभी परिणाम बाकी है. उत्तर भारत में बेमौसम बारिश और ओलाबृष्टि से जो क्षति हुई है किासनों को उसकी पूर्ती कर दे और संभावित कृषि उत्पादों की कमी से निपटने के उपाय कर दे तो काफी है अन्यतः आनेवाले चुनाव के नतीजे तो बता ही देंगे इनकी हैसियत को… देर आयद दुरुस्त आयद की शुरुआत कह सकते हैं. अमित शाह अभी भी पूरे जोशो खरोश में हैं.उनकी ऊर्जा अभी कम नहीं हुई है. ….


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran